Amritvani Part 7 (01) Mandir diyana bar

July 7, 2015
00:0000:00

भगवान के लिये विरह वैराग्य और तड़प पैदा हो गयी तो विरहिन को, नाम दीप आलोकित करना चाहिए क्रमश: यह भक्ति मणि के रूप में ढलता जायगा |

Amritvani Part 7 (02) Darbar me sacche sadguru ke

July 7, 2015
00:0000:00

सद्गुरु के चरणों का आश्रय लेने वाला सभी चिंताओं से मुक्त हो जाता है, उसकी जिम्मेदारी प्रभु ले लेते हैं |

Amritvani Part 7 (03) Kabira kabse bhaya bairagi

July 7, 2015
00:0000:00

सांसारिक से लेकर स्वर्ग तक के प्रलोभनों तथा उन वस्तुओं में आसक्ति का भान न हो तभी सच्चा वैराग्य है | संस्कारों के उन्मूलन तथा प्रभु की प्राप्ति ही योग की पूर्णता है |

Amritvani Part 7 (04) Dashahara - Navaratri

July 7, 2015
00:0000:00

दसों इन्द्रियों से वासनाओं का उन्मूलन दशहरा है | इससे जगत रूपी रात्रि का अवसान और राम राज्य का प्रचंड सूर्योदय हो जाता है |

Amritvani Part 7 (05) Guru aisa mara baan

July 7, 2015
00:0000:00

सद्गुरु के उपदेश हृदय में चुभ जाते हैं जिनसे जनम मृत्यु के कारणों का अंत कराने वाला साधक जागृत हो जाता है |