Amritvani Part 3 (06) Tum chalo divane des

July 7, 2015
00:0000:00

उस देश में चलने का आह्वान है जहाँ के विरह में डूबे हुए दीवाने, जैसे मीरा, जड़ भरत या मंसूर जैसे लोग रहते हैं। वहाँ अलख परमात्मा से आप मिलेंगे। दीवानों के क्या लक्षण है ? इस पद में देखें।

Amritvani Part 3 (07) Pivat naam ras pyala

July 7, 2015
00:0000:00

राम नाम का प्याला पीने से मन मतवाला हो जाता है। उस प्याले का उतार-चढ़ाव श्वास-प्रश्वास पर है। नाम जपने की समग्र विधि पर इसमें प्रकाश डाला गया है। इस नाम की जागृति सद्गुरु से हैं।

Amrtivani Part 3 (08) Naam roop

July 7, 2015
00:0000:00

ईश्वर-पथ की चार भूमिकाएँ नाम, रूप, लीला और धाम हैं। नाम जप, स्वरूप का ध्यान, लीला अर्थात् प्रभु से मिलने वाला आदेश तथा लीला देखते हुए उस केन्द्र में स्थिति, जहाँ से प्रभु अपनी वाणी का प्रसार करते हैं उस धाम का स्पर्श, सम्पूर्ण साधना का संक्षिप्त चित्रण प्रस्तुत पद में द्रष्टव्य है।

Amrtivani Part 3 (09) Geeta saransh

July 7, 2015
00:0000:00

इसमें आप इतना समझ लेंगे कि मूलतः गीता का सारांश क्या है।

Amrtivani Part 3 (10) Jiv ka uddhar

July 7, 2015
00:0000:00

यह जीव जन्म जन्मान्तरों से शरीरों की यात्रा करता चला आ रहा है | एक परमात्मा में समर्पण, साधन करने से ही जीव का उद्धार संभव है |