Amritvani Part 7 (06) Khayale rind mastana

July 7, 2015
00:0000:00

सद्गुरु का चिंतन साधक को सदैव मस्ती में डुबाये रखता है | इसके पश्चात भगवान ही साधक को उठाते बैठाते चलाते है |

Amritvani Part 7 (07) Balihari aise sadguru ki

July 7, 2015
00:0000:00

कर्मों से मुक्ति दिलाने वाले सद्गुरु के प्रति आभार प्रदर्शक भजन है |

Amritvani Part 7 (08) Umar sab dhokhe mein

July 7, 2015
00:0000:00

जिस कमी की पूर्ति के लिये मानव शरीर मिला उस भजन को न कर जीवन पर्यंत हमने जिनका संग्रह किया धोखा ही निकला |

Amritvani Part 7 (09) Sai tera bhed na jane koi

July 7, 2015
00:0000:00

बाह्य शरीर की धुलाई से अंतर के मैल नही जाते जिनके रहते परमात्मा का दर्शन नहीं हो पाता | भजन में एक दिन की भी कमी एक जनम का कारण होती है इसलिये भजन में लापरवाही नहीं करनी चाहिये |

Amritvani Part 7 (10) Avadgu jivat hi kare aasa

July 7, 2015
00:0000:00

जीते जी ही भजन संभव है मरने के पश्चात भजन नहीं होता | जिसने भी पाया जीते जी पाया है |