Amrtivani Part 4 (03) Swarth

July 7, 2015
00:0000:00

समाज में स्वार्थ गर्हित है किन्तु स्वार्थ का विशुद्ध अर्थ स्वयं का अर्थ अर्थात् स्व-स्वरूप की जागृति तथा उसकी उपलब्धि है।

Facebook Comments: